शाकद्वीपीय मग ब्राह्मण समाज (भोजक/सेवग/मिश्र/पाठक/पाण्डेय) की 2006 से एकमात्र अपडेटेड वेबसाइट
 
 
Surya Dev

 
 

सूर्या सप्तमी महोत्सव


सम्पूर्ण भारतवर्ष में माघ माह की प्रथम सप्तमी को यह पर्व मनाया जाता है । इस दिन भगवन भास्कर एवं अन्य देवी देवताओ की झाकियां निकाली जाती है । भगवान् भास्कर का हवं किया जाता है । युवा वर्ग पूरे उल्लास के साथ डांडिया खेलते है और अन्य सांस्कृतिक एवं सामाजिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है ।

सूर्य सप्तमी क्यों मनाते है ?


भगवन श्री कृष्ण के पुत्र शाम्भ को अपने सौंदर्य पर बहुत घमंड था इसलिए उसका घमंड भंग करने हेतु भगवन श्री कृष्ण ने उसे कुष्ठ रोग का श्राप दिया । क्षमा याचना करने पर नारद जी ने उसे उपाय बताया कि तुम जगन्नाथ पूरी के पास चन्द्र भागा नदी के किनारे जाकर भगवन सूर्य कि उपासना करो तब तुम्हे इस श्राप से मुक्ति मिलेगी । उसके बाद शाम्भ ने वहां जाकर नारद जी के बताये अनुसार सूर्य की उपासना की । सूर्य देव प्रसन्न होकर शाम्भ के स्वप्न में आये और कहा कि कल नहीं में तुम्हे एक तैरती हुई सूर्य प्रतिमा मिलेगी, उसे तुम निकाल लेना, आगे का कार्य मैं तुम्हे स्वप्न में आके बताता रहूँगा । इसके बाद शाम्भ ने नदी में से सूर्य कि प्रतिमा प्राप्त की । इस प्रतिमा कि प्राण प्रतिष्ठा हेतु भगवान् श्री कृष्ण से आज्ञा लेकर उनके गरुड़ द्वारा शाकद्वीपीय नामक टापू से सभी मुनियों को बुलाया गया । जिस दिन प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा हुई वह दिन माघ सुदी सप्तमी थी । तब से प्रत्येक वर्ष इस सप्तमी को "सूर्य सप्तमी" के रूप में मनाया जाता है ।


खेलनी सप्तमी महोत्सव


सम्पूर्ण भारतवर्ष में फाल्गुन माह की सप्तमी को यह पर्व मनाया जाता है । वास्तव में यहाँ पर्व शाकद्वीपीय समाज द्वारा होली के पर्व का आगाज़ है । इस दिन समस्त सामाजिक बन्धु श्री नागानेची माता जी के मंदी में दर्शन एवं भजन के लिए एकत्रित होते है । देवी नागानेची को बोरला, चांदी का तोरण और पंचरंगी साड़ियाँ पहना कर विशेष श्रृंगार किया जाता है । फिर मंदिर प्रांगण में भक्ति और पारंपरिक गीतों का अनवरत दौर चलता है । जिसमे गणेश वंदना के बाद "हंस चढ़ी भवानी", "मात भवानी जागे" एवं "तुर्र्रे आली माता ए" के बाद हडाऊ मेरी कि रम्मत एवं लुप्त होते पारंपरिक गीतों कीप्रमुखता रहती है । भजन के बाद शहर में विभिन्न स्थानों पर गोठ और भोज का आयोजन किया जाता है । गोठ के बाद लोग गोगागेट से गैर के रूप में विभिन्न मोहल्लों से होते हुए मुन्धाड़ा सेवागों के चौक में पहुँच कर गैर का समापन करते है ।


पौष बड़ा


राजस्थान के जयपुर शरार में पौष माह में यहाँ पर्व मनाया जाता है । इस दिन शाकद्वीपीय समाज के सभी बन्धु एकत्र होकर सामाजिक गतिविधियों एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करते है । इस दिन भोज का भी आयोजन किया जाता है जहाँ भोज के दौरान सामाजिक विषयो पर भी चर्चा होती है । समस्त समाज को एक सूत्र में बांधने का जयपुर समाज का यह प्रयास सराहनीय एवं सामाजिक एकता का प्रतीक है ।


  Follow us on . . .  
 
FACEBOOK    INSTAGRAM    TWITTER    BLOGSPOT
 
   


  News Update . . .  
 
  • नीट अभ्यर्थियों के लिए व्यवस्था

  • साम्बायन का प्रकाशन एवं लोकार्पण

  • अमर शहीद मंगल पांडे की स्मृति में रक्तदान शिविर - नागौर

  • प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को छात्रवृति व प्रोत्साहन राशि

  • उच्च श्रेणी वैदिक कर्मकांड, ज्योतिष और वास्तुशास्त्र शिविर - उड़ीसा

  • केशव का सुयश

  • मोहित बने संयुक्त विजेता

  • ई-पोस्टर प्रतियोगिता में हर्षिता शर्मा विजेता

  • अक्षय तृतीया और श्री परशुराम जन्मोत्सव की हार्दिक शुभकामनायें

  • शीतलाष्टमी मेले पर जनसेवा, नागौर

  • होली स्नेह मिलन - जोधपुर

  • पं. कमला प्रसाद मिश्र स्मारक T20 क्रिकेट श्रृंखला संपन्न

  • पंकज ने जीते 4 स्वर्ण पदक

  • होली स्नेह मिलन समारोह, दिल्ली एन सी आर

  • फाग महोत्सव, नागौर

  • फाग उत्सव - जयपुर

  • सार्व. शाक. ब्रा. महासभा का पारिवारिक मिलन समारोह का आयोजन

  • विमलेंद्र मोहन बने राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट के सदस्य

  • सूर्य सप्तमी महोत्सव 2020

  • जयपुर संगठन कार्यकरिणी गठन और सूर्य सप्तमी महोत्सव

  • युवक-युवती परिचय एवं सामूहिक विवाह सम्मेलन

  • भगवान सूर्य की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा

  • महासभा का प्रतिभा सम्मान समारोह

  • राज भोजक हुवे सम्मानित



  •  
       



      Advertisements  
     
    विज्ञापन के लिए स्थान

    अपने प्रतिष्ठान या व्यवसाय का विज्ञापन यहाँ लगवाएं

    अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें
     
       
     
     
    QUICK LINKS : सामाजिक समाचारशोक सन्देशफेस ऑफ़ द मंथसंगठनप्रकाशनडाउनलोडसंपर्कइतिहासगोत्रसूर्य देव


    All Rights Reserved. Site designed by - S. K. Infotech. Mail us - feedback@shakdwipiya.com | Site Map| E-mail